श्री दुर्गा चालीसा,Maa Durga Chalisa Hindi Lyrics,durga mata chalisa

दुर्गा चालीसा इन हिंदी

0
363

श्री दुर्गा चालीसा,Maa Durga Chalisa Hindi Lyrics,durga mata chalisa

Durga Chalisa : is a devotional song based on durga mata.durga chalisa is a popular prayer compsed of 40 verses.this chalisa is song by durga mata devotess for fulfilment of their wishes. 

श्री दुर्गा चालीसा

॥चौपाई॥

नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो दुःख हरनी ।।

निराकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूँ लोक फैली उजयारी।।

सशी ललाट मुख महाविशाला। नेत्र लाल भृकुटि विकराला।। 

रूप मातु को अधिक सुहावे। दरश करत जन अति सुख पावे।।

तुम संसार शक्ति लय किना। पालन हेतु अल हल जीना।।

अन्नपूर्णा हुई जग पाला। तुम ही आदि सुन्दरी बाला।।

प्रलयकाल सब नाशन हारी। तुम गोरी शिवशंकर प्यारी।।

शिव योगी तुम्हारे गुण गावे। ब्रम्हा विष्णु तुम्हे नित ध्यावे।।

रूप सरस्वती को तुम धारा। दे सुबुद्धि ऋषि-मुनिन उबारा।।

धरा रूप नरसिंह को अम्बा। प्रकट भई फाड़कर खम्बा।।

रक्षा कर प्रलाद बचायो। हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो।।

लक्ष्मी रूप धरो जग माही। श्री नारायण अंग समाही।।

क्षीरसिन्धु में करत विलाषा। दयासिन्धु दीजे मन आसा।।

हिंगलाज में तुम ही भवानी। महिमा अमित न जात भखानी।।

मान्तंगी अरु धूमावती माता। भुवनेश्वरी बगला सुख दाता।।

श्री भेरव तारा जग तारणी। छिन्न भाल भव दुःख निवारनी।।

केहरी वाहन सोह भवानी। लांगुर वीर चलत अगवानी।।

कर में खप्पर खड़क विराजे। जाको देख कल डर भाजे।।

सोहै अस्त्र और त्रिशूला। जाते उठत शत्रु हिये शुला।।

नगर कोटि में तुम्ही विराजत। तिहूँ लोक में डंका बाजत।।

शुम्भ निशुम्भ दानव तुम मारे। रक्त बिज शंखन संहारे।।

महिषासुर नृप अति अभिमानी। जेहि अघ भार मही अकुलानी।।

रूप कराल कलिका धारा। सेन सहित तुम तीही संहारा।।

परी गाढ़ सन्तन पर जब जब। भई सहाय मातु तुम तब तब।।

अमरपुरी बासु सब लोका। तब महिमा सब रहे अलोका।।

ज्वाला में है ज्योति तुम्हारी। तुम्हे पूजे सदा नर और नारी।।

प्रेम भक्ति से जो यस गावे। दुःख दारिद्र निकट नहिं आवें।।

ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई। जन्म-मरण ताकौ छुटि जाई।।

जोगी सुर मुनि कहत पुकारी। योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी।।

शंकर आचारज तप कीनो। काम अरु क्रोध जीति सब लीनो।।

निशिदिन ध्यान धरो शंकर को। कालू काल नही सुमरो तुमको।।

शक्ति रूप को मरम न पायो। शक्ति गयी तब मन पछतायो।।

शरणागत हुई कीर्ति बखानी। जय जय जय जगदम्ब भवानी।।

भई प्रसन्न आदि जगदम्बा। दई शक्ति नही किन विलम्बा।।

मोको मातु कष्ट अति घेरो। तुम बिन कौन हरै दुःख मेरो।।

आशा त्रष्णा निपट सतावे। मोह मिदादिक सब विनशावे।।

शत्रु नाश कीजे महारानी। सुमिरो ईकचित तुम्हे भवानी।।

करो क्रपा हे मातु दयाला। ऋद्धि-सिद्धि दे करहु निहाला।।

जब लगी जियउं दया फल पाव। तुम्हरो यश में सदा सुनाऊ।।

दुर्गा चालीसा जो नित गावे। सब सुख परमपद पावे।।

देविदास शरण निज जानी। करहु कृपा जगदम्ब भवानी।।

दुर्गा चालीसा के लाभ :

Benefits of Durga chalisa : Regular recitation durg chalisa gives peace of mind & keeps away all the evel from your life & makes you healthy,wealthy and prosperous. 

2019 Durga Mata Date & Time

श्री दुर्गा माता का पर्व 2019 में कब से शुरू है किस किस दिन है

दोस्तों कैसा लगा आपको हमारा ये पोस्ट और श्री दुर्गा माता की चालीसा अगर अच्छी लगे तो अपने फेसबुक आदि पर पोस्ट को शेयर जरुर करे ताकि सभी भक्ति का अनादं ले सकते अगर आपको किसी चीज की जानकारी की पोस्ट चाहिए तो निचे कमेंट करे उसी प्रकार की पोस्ट आपको देखने को मिलगी धनयवाद माता रानी आप सभी पर अपनी क्रप्या बनाये रखे.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here