Hartalika Teej: हरतालिका तीज का नाम कैसे पड़ा? यहां पढ़ें व्रत विधि व कथा

0
198
Hartalika-Teej 2020
Hartalika-Teej 2020

Hartalika Teej: हरतालिका तीज का नाम कैसे पड़ा? यहां पढ़ें व्रत विधि व कथा !

Hartalika Teej

विशेष बात: यदि किसी ने एक बार व्रत रखना शुरू किया तो जीवनभर रखना पड़ेगा

इस व्रत की पात्र कुमारी कन्याएं या सुहागिन महिलाएं दोनों ही हैं. लेकिन एक बार व्रत रखने बाद जीवनभर इस व्रत को रखना पड़ता है. यदि व्रती महिला गंभीर रोगी हालात में हो तो उसके बदले में दूसरी महिला या उसका पति भी इस व्रत को रख सकता है.

आओ जाने कैसे पड़ा हरतालिका तीज नाम:

हरतालिका दो शब्दों से बना है, हरित और तालिका. हरित का अर्थ है हरण करना और तालिका अर्थात सखी. यह पर्व भाद्रपद की शुक्ल तृतीया को मनाया जाता है, जिस कारण इसे तीज कहते है. इस व्रत को हरितालिका इसलिए कहा जाता है, क्योकि पार्वती की सखी (मित्र) उन्हें पिता के घर से हरण कर जंगल में ले गई थी.

हरतालिका तीज व्रत कथा

hartalika teej

लिंग पुराण की एक कथा के अनुसार मां पार्वती ने अपने पूर्व जन्म में भगवान शंकर को पति रूप में प्राप्त करने के लिए हिमालय पर गंगा के तट पर अपनी बाल्यावस्था में अधोमुखी होकर घोर तप किया. इस दौरान उन्होंने अन्न का सेवन नहीं किया. कई वर्षों तक उन्होंने केवल हवा पीकर ही व्यतीत किया. माता पार्वती की यह स्थिति देखकर उनके पिता अत्यंत दुखी थे.

इसी दौरान एक दिन महर्षि नारद भगवान विष्णु की ओर से पार्वती जी के विवाह का प्रस्ताव लेकर मां पार्वती के पिता के पास पहुंचे, जिसे उन्होंने सहर्ष ही स्वीकार कर लिया. पिता ने जब मां पार्वती को उनके विवाह की बात बताई तो वह बहुत दुखी हो गईं और जोर-जोर से विलाप करने लगीं. फिर एक सखी के पूछने पर माता ने उसे बताया कि वह यह कठोर व्रत भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त करने के लिए कर रही हैं, जबकि उनके पिता उनका विवाह विष्णु से कराना चाहते हैं. तब सहेली की सलाह पर माता पार्वती घने वन में चली गई और वहां एक गुफा में जाकर भगवान शिव की आराधना में लीन हो गईं.

कैसे करें हरतालिका तीज व्रत/ विधि

इस व्रत पर सौभाग्यवती स्त्रियां नए लाल वस्त्र पहनकर, मेंहदी लगाकर, सोलह श्रृंगार करती हैं और शुभ मुहूर्त में भगवान शिव और मां पार्वती की पूजा आरम्भ करती हैं. इस पूजा में शिव-पार्वती की मूर्तियों का विधिवत पूजन किया जाता है और फिर हरतालिका तीज की कथा को सुना जाता है.

माता पार्वती पर सुहाग का सारा सामान चढ़ाया जाता है. मान्यता है कि जो सभी पापों और सांसारिक तापों को हरने वाले हरतालिका व्रत को विधि पूर्वक करता है, उसके सौभाग्य की रक्षा स्वयं भगवान शिव करते हैं.

hariyali teej
हरतालिका तीज का व्रत 23 जुलाई 2020 को रखना है
प्रातःकाल मुहूर्त :05:53:39 से 08:29:44 तक
अवधि :2 घंटे 36 मिनट
प्रदोष काल मुहूर्त :18:54:04 से 21:06:06 तक
ऐसे करें व्रत का समापन

इस व्रत के व्रती को शयन का निषेध है इसके लिए उसे रात्रि में भजन कीर्तन के साथ रात्रि जागरण करना पड़ता है प्रातः काल स्नान करने के पश्चात् श्रद्धा और भक्ति पूर्वक किसी सुपात्र सुहागिन महिला को श्रृंगार सामग्री, वस्त्र, खाद्य सामग्री, फल, मिठाई और यथा शक्ति आभूषण का दान करना चाहिए l

Good Morning SMS

Bholenath Shayari 

Raksha Bandhan 2020

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here