Vishwakarma Puja 2020 Date: कब है विश्वकर्मा पूजा, जानिए पूजा की विधि और शुभ महूर्त हिन्दी में:

0
171

Vishvakarma Pooja/विश्वकर्मा पूजा:

हिन्दू धर्म में विश्वकर्मा को निर्माण एवं सृजन का देवता माना जाता है। मान्यता है कि सोने की लंका का निर्माण उन्होंने ही किया था।

ऋग्वेद मे विश्वकर्मा सुक्त के नाम से 11 ऋचाऐ लिखी हुई है। जिनके प्रत्येक मन्त्र पर लिखा है ऋषि विश्वकर्मा भौवन देवता आदि। यही सुक्त यजुर्वेद अध्याय 17, सुक्त मन्त्र 16 से 31 तक 16 मन्त्रो मे आया है

Vishwakarma Pooja
Vishwakarma Pooja

All Posts

ऋग्वेद मे विश्वकर्मा शब्द का एक बार इन्द्र व सुर्य का विशेषण बनकर भी प्रयुक्त हुआ है। परवर्ती वेदों मे भी विशेषण रूप मे इसके प्रयोग अज्ञत नही है यह प्रजापति का भी विशेषण बन कर आया है।

प्रजापति विश्वकर्मा विसुचित।

परन्तु महाभारत के खिल भाग सहित सभी पुराणकार प्रभात पुत्र विश्वकर्मा को आदि विश्वकर्मा मानतें हैं। स्कंद पुराण प्रभात खण्ड के निम्न श्लोक की भांति किंचित पाठ भेद से सभी पुराणों में यह श्लोक मिलता हैः-

बृहस्पते भगिनी भुवना ब्रह्मवादिनी।

प्रभासस्य तस्य भार्या बसूनामष्टमस्य च।

विश्वकर्मा सुतस्तस्यशिल्पकर्ता प्रजापतिः॥16॥

54087Vishwakarma
54087Vishwakarma

महर्षि अंगिरा के ज्येष्ठ पुत्र बृहस्पति की बहन भुवना जो ब्रह्मविद्या जानने वाली थी वह अष्टम् वसु महर्षि प्रभास की पत्नी बनी और उससे सम्पुर्ण शिल्प विद्या के ज्ञाता प्रजापति विश्वकर्मा का जन्म हुआ। पुराणों में कहीं योगसिद्धा, वरस्त्री नाम भी बृहस्पति की बहन का लिखा है।

vishwakarma-puja-2019_1568629153
vishwakarma-puja-2019_1568629153

शिल्प शास्त्र का कर्ता वह ईश विश्वकर्मा देवताओं का आचार्य है, सम्पूर्ण सिद्धियों का जनक है, वह प्रभास ऋषि का पुत्र है और महर्षि अंगिरा के ज्येष्ठ पुत्र का भानजा है। अर्थात अंगिरा का दौहितृ (दोहिता) है।

अंगिरा कुल से विश्वकर्मा का सम्बन्ध तो सभी विद्वान स्वीकार करते हैं। जिस तरह भारत मे विश्वकर्मा को शिल्पशस्त्र का अविष्कार करने वाला देवता माना जाता हे और सभी कारीगर उनकी पुजा करते हे। उसी तरह चीन मे लु पान को बदइयों का देवता माना जाता है।

प्राचीन ग्रन्थों के मनन-अनुशीलन से यह विदित होता है कि जहाँ ब्रहा, विष्णु ओर महेश की वन्दना-अर्चना हुई है, वही भनवान विश्वकर्मा को भी स्मरण-परिष्टवन किया गया है। ” विश्वकर्मा” शब्द से ही यह अर्थ-व्यंजित होता है

“विशवं कृत्स्नं कर्म व्यापारो वा यस्य सः

अर्थातः जिसकी सम्यक् सृष्टि और कर्म व्यपार है वह विशवकर्मा है। यही विश्वकर्मा प्रभु है, प्रभूत पराक्रम-प्रतिपत्र, विशवरुप विशवात्मा है। वेदों में विशवतः चक्षुरुत विश्वतोमुखो विश्वतोबाहुरुत विश्वस्पात कहकर इनकी सर्वव्यापकता, सर्वज्ञता, शक्ति-सम्पन्ता और अनन्तता दर्शायी गयी है।

vishwakarma wishes in hindi
vishwakarma wishes in hindi

हमारा उद्देश्य तो यहाँ विश्वकर्मा जी का परिचय कराना है। माना कई विश्वकर्मा हुए हैं और आगे चलकर विश्वकर्मा के गुणों को धारण करने वाले श्रेष्ठ पुरुष को विश्वकर्मा की उपाधि से अलंकृत किया जाने लगा हो तो यह बात भी मानी जानी चाहिए।

321822-vishwakarma-pujan-3
321822-vishwakarma-pujan-3

भारतीय संस्कृति के अंतर्गत भी शिल्प संकायो, कारखानो, उद्योगों में भगवान विशवकर्मा की महता को प्रगत करते हुए प्रत्येक वर्ष 17  सितम्बर को श्वम दिवस के रूप मे मनाता हे। यह उत्पादन-वृदि ओर राष्टीय समृद्धि के लिए एक संकलप दिवस है। यह जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान नारे को भी श्वम दिवस का संकल्प समाहित किये हुऐ है।

868294-609939-vishwakarma-puja
868294-609939-vishwakarma-puja

यह पर्व सोरवर्ष के कन्या संर्काति मे प्रतिवर्ष 17 सितम्बर विशवकर्मा-पुजा के रूप मे सरकारी व गैर सरकारी ईजीनियरिग संस्थानो मे बडे ही हषौलास से सम्पन्न होता हे। लोग भ्रम वश इस पर्व को विश्वकर्मा जयंति मानते हे।

 

 

Vishwakarma Puja Wallpaper
Vishwakarma Puja Wallpaper

जो सर्वदा अनुचित हे। भाद्रपद शुक्ला प्रतिपदा कन्या की संक्राति (16 सितम्बर), कार्तिक शुक्ला प्रतिपदा (गोवर्धन पूजा), भाद्रपद पंचमी (अंगिरा जयन्ति) मई दिवस आदि विश्वकर्मा-पुजा महोत्सव पर्व है। इन पर्वो पर भगवान विश्वकर्मा जी की पुजा-अर्चना की जाती है।

आन्ध्रप्रदेश के मछलीपट्टनम का विश्वकर्मा मन्दिर:

भगवान विशवकर्मा जी की वर्ष मे कई बार पुजा व महोत्सव मनाया जाता है। जैसे भाद्रपद शुक्ला प्रतिपदा इस तिंथि की महिमा का पुर्व विवरण महाभारत मे विशेष रूप से मिलता है। इस दिन भगवान विश्वकर्मा जी की पूजा अर्चना की जाती है। यह शिलांग और पूर्वी बंगला मे मुख्य तौर पर मनाया जाता है।

raftaar_2020-09_0aeb5109-7484-45ca-b699-d96117c0156c_vishwakarma_puja
raftaar_2020-09_0aeb5109-7484-45ca-b699-d96117c0156c_vishwakarma_puja

 

अन्नकुट (गोवर्धन पूजा) दिपावली से अगले दिन भगवान विश्वकर्मा जी की पुजा अर्चना (औजार पूजा) की जाती है। मई दिवस, विदेशी त्योहार का प्रतीक है। रुसी क्रांति श्रमिक वर्ग कि जीत का नाम ही मई मास के रुसी श्रम दिवस के रूप मे मनाया जाता है।

vishwakarma_3416684_835x547-m
vishwakarma_3416684_835x547-m

5 मई को ऋषि अंगिरा जयन्ति होने से विश्वकर्मा-पुजा महोत्सव मनाया जाता है भगवान विश्वकर्मा जी की जन्म तिथि माघ मास त्रयोदशी शुक्ल पक्ष दिन रविवार का ही साक्षत रूप से सुर्य की ज्योति है। ब्राहाण हेली को यजो से प्रसन हो कर माघ मास मे साक्षात रूप मे भगवान विश्वकर्मा ने दर्शन दिये। श्री विश्वकर्मा जी का वर्णन मदरहने वृध्द वशीष्ट पुराण मे भी है।

vishwakarma_puja01_5098213_835x547-m (1)
vishwakarma_puja01_5098213_835x547-m (1)

माघे शुकले त्रयोदश्यां दिवापुष्पे पुनर्वसौ।

अष्टा र्विशति में जातो विशवकमॉ भवनि च॥

धर्मशास्त्र भी माघ शुक्ल त्रयोदशी को ही विश्वकर्मा जयंति बता रहे है। अतः अन्य दिवस भगवान विश्वकर्मा जी की पुजा-अर्चना व महोत्सव दिवस के रूप मे मनाऐ जाते है। ईसी तरह भगवान विश्वकर्मा जी की जयन्ती पर भी विद्वानों में मतभेद है।

vishwakarma-puja_1536817577
vishwakarma-puja_1536817577

भगवान विश्वकर्मा जी की वर्ष मे कई बार पुजा व महोत्सव मनाया जाता है।

निःदेह यह विषय निर्भ्रम नहीं है। हम स्वीकार करते है प्रभास पुत्र विश्वकर्मा, भुवन पुत्र विश्वकर्मा तथा त्वष्ठापुत्र विश्वकर्मा आदि अनेकों विश्वकर्मा हुए हैं। यह अनुसंधान का विषय है।

अतः सभी विशवकर्मा मन्दिर व धर्मशालाऔं, विशवकर्मा जी से सम्भधींत संस्थाऔं, संघ व समितिऔं को प्रस्ताव पारित करके भारत सरकार से मांग जानी चाहीए की सम्पुर्ण संस्कृत साहित्य का अवलोकन किया जाय, भारत की विभिन्न युनीर्वशटीजो मे इस विष्य पर शौध की जानी चाहीए I

विदेशों में भी खोज की जाय, तथा भारत सरकार विश्वकर्मा वशिंयो का सर्वेक्षण किसी प्रमुख मीडिया एजेन्सी से करवाऐ। श्रुति का वचन है कि विवाह, यज्ञ, गृह प्रवेश आदि कर्यो मे अनिवार्य रूप से विशवकर्मा-पुजा करनी चाहिए

विवाहदिषु यज्ञषु गृहारामविधायके।

सर्वकर्मसु संपूज्यो विशवकर्मा इति श्रुतम॥

स्पष्ट है कि विशवकर्मा पूजा जन कल्याणकारी है। अतएव प्रत्येक प्राणी सृष्टिकर्ता, शिल्प कलाधिपति, तकनीकी ओर विज्ञान के जनक भगवान विशवकर्मा जी की पुजा-अर्चना अपनी व राष्टीय उन्नति के लिए अवश्य करनी चाहिए।

जगदचक विश्वकर्मन्नीश्वराय नम:॥

आश्चर्यजनक वास्तुकार:

चार युगों में विश्वकर्मा ने कई नगर और भवनों का निर्माण किया। कालक्रम में देखें तो सबसे पहले सत्ययुग में उन्होंने स्वर्गलोक का निर्माण किया, त्रेता युग में लंका का, द्वापर में द्वारका का और कलियुग के आरम्भ के ५० वर्ष पूर्व हस्तिनापुर और इन्द्रप्रस्थ का निर्माण किया।

विश्वकर्मा ने ही जगन्नाथ पुरी के जगन्नाथ मन्दिर में स्थित विशाल मूर्तियों (कृष्ण, सुभद्रा और बलराम) का निर्माण किया।

विश्वकर्मा जयंती:

विश्वकर्मा जयंती हिंदू धर्म में ब्रह्मांड के दिव्य वास्तुकार भगवान विश्वकर्मा को समर्पित है। विश्वकर्मा भाद्र केबंगाली महीने के अंतिम दिन, विशेष रूप से भद्रा संक्रांति पर निर्धारित की जाती है। यही कारण है कि जब सूर्य सिंह सेकन्या पर हस्ताक्षर करता है इसे कन्या सक्रांति के रूप में भी जाना जाता है।

हिन्दू धर्म में विश्वकर्मा को निर्माण एवं सृजन का देवता माना जाता है। वे वास्तुदेव के पुत्र  तथा माता अंगिरसी के पुत्र थे। मान्यता है कि सोने की लंका का निर्माण भी उन्होंने ही किया।

vishwakarma-puja_1536823606
vishwakarma-puja_1536823606

पौराणिक काल में विशाल भवनों का निर्माण भगवान विश्वकर्मा करते थे। उन्होंने ही इन्द्रपुरी,  यमपुरी, वरुणपुरी, पांडवपुरी, कुबेरपुरी, शिवमंडलपुरी तथा सुदामापुरी आदि का निर्माण किया था। सोने की लंका के अलावा कई ऐसे भवनों का निर्माण उन्होंने किया था, जो उस समय स्थापत्य और सुंदरता में अद्वितीय होने के साथ-साथ वास्तु के हिसाब भी महत्वपूर्ण थे।

ये मंदिर देवी-देवताओं, राजा-महाराजाओं द्वारा बनवाए जाते थे। यह भी कहा जाता है कि  भगवान विश्‍वकर्मा को इतना अनुभव था कि वे अपनी कार्यशक्ति से पानी में चलने वाला  खड़ाऊ भी बना सकते थे।

 

वैसे तो भगवान विश्वकर्मा का वर्षभर में कई बार पूजा महोत्सव मनाया जाता है, पर उनकी  जन्म तिथि माघ शुक्ल त्रयोदशी को मानी जाती है। भगवान विश्वकर्मा की पूजा  जनकल्याणकारी है अतएव प्रत्येक व्यक्ति को तकनीकी और विज्ञान के जनक भगवान  विश्वकर्मा की पूजा-अर्चना अवश्य करनी चाहिए।

विश्वकर्मा पूजा का शुभ मुहूर्त-

चतुर्दशी तिथि आरंभ (15 सितंबर)- 11 बजकर 1 मिनट से। चतुर्दशी तिथि समाप्त (16 सितंबर)- 7 बजकर 56 मिनट तक। पूजा का शुभ मुहूर्त- 16 सितंबर- सुबह 10 बजकर 9 मिनट से 11 बजकर 37 मिनट तक।

सोने की लंका के निर्माण के संबंध में एक कहानी है कि त्रिलोक विजेता बनने के बाद रावण के  मन में अपनी प्रतिष्ठा के अनुकूल ऐसे नगर के निर्माण का विचार आया जिसके आगे देवताओं  की अलकापुरी भी फीकी नजर आए। उसने शिव की आराधना कर उनसे सोने की लंका बनाने  में देवशिल्पी विश्वकर्मा का सहयोग मांगा।

शिव के कहने पर विश्वकर्मा ने सोने की लंका का ऐसा प्रारूप बनाया जिसे देखते ही रावण की  बांछें खिल गईं। उसी के आधार पर बनी सोने की लंका की सुंदरता देखते ही बनती थी। रावण  लंका में आने वाले हर महत्वपूर्ण अतिथि को वहां के दर्शनीय स्थलों को बड़े गर्व के साथ  दिखाता।

ऐसे ही एक बार वह बड़े-बड़े ऋषि-मुनियों को लंका का भ्रमण करा रहा था। वे भी लंका का सौंदर्य देखकर अचंभित थे। इस बीच रास्ते में मिलने वाले लंकावासी रावण को देखकर भय से नतमस्तक हो जाते, लेकिन अतिथियों का कोई अभिवादन नहीं करता। ऐसा ही व्यवहार रावण  के मंत्रियों, सैनिकों और कर्मचारियों ने भी किया।

happy-vishwakarma-day-puja-wishes-hindi-images2

happy-vishwakarma-day-puja-wishes-hindi-images2.jpg

भ्रमण समाप्ति पर रावण ने ऋषियों से पूछा- ‘आपको हमारी लंका कैसी लगी?’

एक महर्षि बोले- ‘लंका तो अद्भुत है लंकेश लेकिन यह शीघ्र ही नष्ट हो जाएगी, क्योंकि आपने  लंका के सौंदर्य और सुरक्षा के लिए तो बहुत कुछ किया है, लेकिन इसके स्थायित्व के लिए  कुछ भी नहीं। जहां के निवासियों के मुख पर प्रसन्नता की जगह भय के भाव हों और जिनमें  सदाचार का अभाव हो, वह नगर समय के साथ नष्ट हो जाता है।’

श्री विश्वकर्मा भगवान के 108 नाम… 

 

भारतीय परंपरा में निर्माण कार्य से जुड़े लोगों को ‘विश्वकर्मा की संतान’ कहा जाता है। शास्त्रों  के अनुसार उन्हीं के प्रारूप पर स्वर्ग, देवताओं के अस्त्र-शस्त्र, पुष्पक विमान, द्वारिका, इन्द्रप्रस्थ  आदि का निर्माण हुआ। इस प्रकार वे बहुमुखी कलाकार और शिल्पकार हैं।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here